नव तरंग में आपका स्वागत है.. . . . . .

Thursday, 26 May 2016

भिखमंगा

कविता

भिखमंगा

एहन पुष्टगर देह
कमेबहीं से नञि
लोक लेहाज उठा लेलहीं
चल आबै छहीं
हाथ पसारने

देखू त'
नीक व्यवसाय बनेने अछि
एकटा गुदरी ओढ़ि
हाथ पसारने
एक-दू टा कैंचा लेल
गोहारि करैत अछि

लोक एनाहिते कहतै
भिखमंगाक कोन पुछारि
ओकर बोलीमे छलकैत
वेदनाके कियो नञि सुनैछ

बुझना जाइछ
गतिशील ट्रेनमे
मनुख गतिहीन अछि
मोन चेतना- शून्य अछि

© सुमित मिश्र ''गुंजन''
करियन ,समस्तीपुर
सम्पर्क - 8434810179

No comments:

Post a Comment