नव तरंग में आपका स्वागत है.. . . . . .

Monday, 15 February 2016

है लगी ये आग कैसी

गजल

है लगी ये आग कैसी खाक भी जलने लगे हैं
आप की परवाह किसको बेख़बर रहने लगे हैं

रात का पसरा सन्नाटा रुह भी है काँपती
जाम के दो घूँट पीकर दर्द को सहने लगे हैं

है ये दुनिया कातिलाना खून अपने चूसते हैं
हाथ में खंजर छुपाए वो गले लगने लगे हैं

इस सफर में साथ आये हमसफर ने छोड़ डाला
कल तलक थे मित्र उनके दुश्मन अब कहने लगे हैं

दौड़ूँ -भागूँ या चिल्लाऊँ क्या करुँ मैं ज़िंदगी
जिनको हमने दिल दिया था वेबफ़ा लगने लगे हैं

मन बड़ा मासूम ठहरा राज दिल की खोल देगा
ले "सुमित" यह लेखनी कुछ ग़ज़ल कहने लगे हैं

सुमित मिश्र
करियन ,समस्तीपुर